शिक्षाशास्त्र

वस्तुनिष्ठ परीक्षा के प्रश्नों के प्रकार | Types of Objective Test Questions in Hindi

वस्तुनिष्ठ परीक्षा के प्रश्नों के प्रकार | Types of Objective Test Questions in Hindi

वस्तुनिष्ठ परीक्षा के प्रश्नों के प्रकारभूमिका

आधुनिक मनोवैज्ञानिक निबन्धात्मक परीक्षा प्रणाली के पक्ष में नहीं है। इससे छात्रों की  योग्यता का सही-सही मापन नहीं हो पाता। अतः वर्तमान समय में एक नवीन प्रकार की परीक्षाओं का निर्माण हुआ है। शिक्षक इस प्रकार की परीक्षाओं को स्वयं बनाता है। अतः ये समय, मूल्य और आवश्यकताओं की दृष्टि से श्रेष्ठ होती है। इस प्रकार की परीक्षाओं से बालकों के ज्ञान और उनकी कमजोरियों की वस्तुगत जानकारी की जा सकती है। वस्तुनिष्ठ परीक्षा में प्रश्न अनेक प्रकार से बनाये जाते हैं। इन प्रश्नों के अनेक रूप होते हैं।

वस्तुनिष्ठ परीक्षा के प्रश्नों के प्रकार

वस्तुनिष्ठ परीक्षा प्रणाली में निम्नलिखित प्रकार के प्रश्नों को सम्मिलित किया जाता है-

(अ) साधारण प्रत्यास्मरण परीक्षण (Simple Recall Test)–

इस प्रकार के प्रश्नों को विशेषता यह होती है कि बालक ने जो ज्ञान अर्जित किया है, उसे वह प्रत्यास्मरण के द्वारा प्रश्नों के उत्तरों के माध्यम से व्यक्त करता है। उसे पुनः स्मरण करके प्रश्नों के उत्तर लिखने पड़ते हैं। इसमें प्रश्नों के उत्तर निश्चित होते हैं और उनमें अनुमान से काम नहीं चल सकता।

उदाहरण-निर्देश- निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर उनके सामने दिये हुए स्थान पर लिखिए-

(1) भारत की राजधानी कहाँ है?

(2) भारत का प्रथम प्रधानमन्त्री कौन था?

(3) गीतांजलि का लेखक कौन था?

(4) स्टीम इंजन का आविष्कार किसने किया?

(ब) सत्यासत्य विवेचन परीक्षण (True and False Test)-

इस प्रकार के प्रश्नों की विशेषता होती है कि जो कथन दिये जाते हैं, वे या तो सत्य होते हैं या असत्य। प्रश्न में दिये गये कुछ कथन सही होते हैं और कुछ गलत। उनमें सत्य या असत्य छाँटने पड़ते हैं।

उदाहरण-निर्देश – निम्नलिखित कथन यदि सही हों तो सत्य को और यदि गलत हों तो असत्य को टिक कर दीजिए।

(1) श्री आर वेंकट रमन भारत के राष्ट्रपति हैं।

सत्य/असत्य

(2) भूमध्यरेखा भारत के मध्य होकर गुजरती है।

सत्य/असत्य

(3) दो अक्टूबर पंडित नेहरू का जन्मदिन है।

सत्य/असत्य

(4) ताजमहल आगरा में स्थित है।

सत्य/असत्य

(स) बहुसंख्यक चयन परीक्षण (Multiple Choice Test)-

इस प्रकार के परीक्षण में प्रश्नों की यह विशेषता होती है कि इसमें एक कथन के अनेक उत्तर दिये होते हैं। उन उत्तरों में से एक उत्तर सही होता है और बाकी गलत। छात्र को अनेक उत्तरों में से सही उत्तर चुनना पड़ता है।

उदाहरण-निर्देश- निम्नलिखित कथनों के अनेक उत्तर दिये हुए हैं। इनमें से एक सही है और शेष गलत। सही उत्तर को टिक कीजिए।

(1) उत्तर प्रदेश की राजधानी (लखनऊ, आगरा, रामपुर, फैजाबाद) है।

(2) शान्तिनिकेतन की स्थापना (महात्मा गाँधी, पं० नेहरू, रवीन्द्रनाथ टैगोर, लालबहादुर शास्त्री) ने की थी।

(3) भारत का राष्ट्रीय पक्षी (कबूतर, मोर, गौरैय्या, हंस) है।

(4) कामायनी की रचना (जयशंकर प्रसाद, मन्मनाथ गुप्त, सुमित्रानन्दन पन्त, श्यामसुन्दर दास) ने की थी।

(द) समन्वयात्मक परीक्षण (Matching Test)–

इस प्रकार के परीक्षण में जो प्रश्न होते  हैं उनमें दो कथन जो एक-दूसरे से समन्वय करते हैं, उन्हें छाँट लेना होता है। प्रायः इनमें दो पदों का मिलान करना होता है।

उदाहरण- निर्देश- निम्नलिखित नगरों के नाम तथा उनकी प्रसिद्धि के कारण दिये हुए हैं। नगरों के नाम के आगे वह संख्या अंकित करनी है जो उससे सम्बन्धित है-

प्रसिद्धि के कारण

नगर

( )

1. बन्दरगाह

देहली

( )

2. राजधानी

विशाखापट्टनम

( )

3. हिल स्टेशन

लखनऊ

( )

4. जरी का काम

फिरोजाबाद

( )

5. चूड़ी के कारखाने

मंसूरी

( )

उदाहरण– निर्देश- नीचे कुछ घटनाएँ दी हुई हैं। उनके सामने अव्यवस्थित रूप में उनसे सम्बन्धित तिथियाँ दी हुई हैं। प्रत्येक के सामने सही तिथियाँ लिखिए –

(1) भारत स्वतन्त्र हुआ

[ ]

1948

(2) महात्मा गाँधी की मृत्यु

[ ]

1977

(3) भारत में जनता पार्टी का शासन प्रारम्भ

[ ]

1950

(4) भारत में नया संविधान लागू हुआ

[ ]

1947

(य) रिक्त स्थानों की पूर्ति परीक्षण (Completion Test) –

इस प्रकार के परीक्षण में जो प्रश्न दिये जाते हैं, उनमें रिक्त स्थानों की पूर्ति करनी पड़ती है।

उदाहरण– निर्देश – निम्नलिखित वाक्यों में रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(1) भारत के प्रथम राष्ट्रपति…………थे।

(2) इटली की राजधानी……….. है।

(3) भारत में सबसे अधिक वर्षा…………..स्थान पर होती है।

(4) संसार का सबसे बड़ा नगर…………….है।

शिक्षाशास्त्र महत्वपूर्ण लिंक

Disclaimer: e-gyan-vigyan.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है। यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- vigyanegyan@gmail.com

About the author

Pankaja Singh

Leave a Comment

error: Content is protected !!