अनुसंधान क्रियाविधि

सांख्यिकीय माध्य का अर्थ एवं परिभाषा | सांख्यिकीय माध्य के उद्देश्य एवं उपयोगिता | एक अच्छे माध्य के लक्षण या गुण

सांख्यिकीय माध्य का अर्थ एवं परिभाषा | सांख्यिकीय माध्य के उद्देश्य एवं उपयोगिता | एक अच्छे माध्य के लक्षण या गुण | Meaning and Definition of Statistical Mean in Hindi | Objectives and Utility of Statistical Mean in Hindi | Characteristics or qualities of a good mean in Hindi

सांख्यिकीय माध्य का अर्थ एवं परिभाषा

(Meaning and Definition of Statistical Average)

समकों की विशाल राशि को सांख्यिकीय रीतियों द्वारा इस प्रकार संक्षिप्त बनाया जाता है कि उनको सरलता से याद रखा जा सके। विज्ञान के प्रत्येक क्षेत्र में बड़ी-बड़ी संख्याओं का प्रयोग किया जाता है। सांख्यिकीय माध्यों द्वारा विशाल संख्याओं का आसानी से अध्ययन किया जा सकता है। सांख्यिकीय माध्यों का इन विशाल संख्याओं में बहुत महत्व है। डॉ. बाउले ने  सांख्यिकी को ‘माध्यायें का विज्ञान’ भी कहा है।

इस सम्बन्ध में प्रमुख परिभाषायें निम्नलिखित हैं-

(1) “एक माध्य केवल बड़ी संख्याओं को दूर करने के लिये प्रयोग किया जाता है।”

इस प्रकार माध्य का उपयोग बड़ी संख्याओं को सूक्ष्म रूप में प्रदर्शित करने हेतु किया जाता है।

(2) “माध्य एक केन्द्रीय प्रवृत्ति का माप है, एक विशेष मूल्य हे, जिसके चारों ओर बहुत से पद ग्रुप में रहते हैं।”

(3) एक माध्य पूर्ण रूप से एक गणितीय धारणा है, जैसे विभिन्न प्रकार की जनसंख्या के जीवन की अवधि जो, जो किसी विशेष समूह के समान नहीं होती अंकगणितीय निष्कर्षों को बताने का संक्षिप्त ढंग है।”

सांख्यिकीय माध्य के उद्देश्य एवं उपयोगिता

(Objectives and Utility of Statistical Average)

सांख्यिकीय माध्य के मुख्य उद्देश्य एवं उपयोगिता अनलिखित हैं-

(1) संक्षिप्त रूप- विशाल समूह को सांख्यिकीय माध्य द्वारा संक्षिपत रूप में प्रदर्शित किया जाता हैं अव्यवस्थित आंकड़ों को समझने में देर लगती है परन्तु माध्यों की सहायता से उसे सरलता से समझा जा सकता हैं।

(2) तुलनात्मक अध्ययन- दो या दो से अधिक समूहों के आंकड़ों का तुलनात्मक अध्ययन सम्भव नहीं है परन्तु यदि इनका माध्य ज्ञात कर लिया जाये तो यह तुलना सरलतापूर्वक की जा सकती है।

(3) भविष्य की योजनाओं का आधार- माध्य के प्रयोग से एक ऐसा मूल्य ज्ञात हो जाता है जो भविष्य की योजनाओं के आधार के रूप में प्रयोग किया जा सकता है।

(4) सांख्यिकीय विवेचन के आधार- सांख्यिकीय माध्य सांख्यिकीय विवेचन के आधार हैं। आंकड़ों के विश्लेषण की समस्त क्रियायें माध्यों पर ही आधारित रहती है। सांख्यिकीय माध्यों के प्रयोग प्रयोग के अभाव में आंकड़ों का सही अध्ययन सम्भव नहीं हो सकता है।

एक अच्छे माध्य के लक्षण या गुण

(Characteristics of a Good Average)

(1) स्पष्ट- माध्य स्पष्ट रूप से प्रयोग होने वाला होना चाहिये। माध्य पर निरीक्षक के व्यक्तिगत पक्षपात का प्रभाव नहीं पड़ना चाहिये।

(2) निदर्शन का न्यूनतम प्रभाव- एक अच्छे मध्य पर निदर्शन के उच्चावचन का न्यूनतम प्रभाव पड़ना चाहिये।

(3) सरलता- अच्छे माध्य में सरलता व सुविधापूर्वक निकाले जाने का गुण विद्यमान रहता है जिससे किसी भी व्यक्ति को समझने में कठिनाई का सामना न करना पड़े।

(4) अंकगणितीय एवं बीजगणितीय प्रयोग सम्भव-माध्य इस प्रकार का होना चाहिये जिस पर अंकगणित वीजगणित के प्रयोग सरलतापूर्वक किये जा सकें।

(5) स्थायित्व- माध्य में स्थायित्व का गुण होना आवश्यक है जिससे पदों के उतार- चढ़ाव का उस पर न्यूनतम प्रभाव पड़ सके।

(6) निरपेक्ष रूप में- एक अच्छे माध्य को निरपेक्ष रूप में व्यक्त करना चाहिये तथा उसे किसी प्रशिक्षित या सापेक्ष रीति से व्यक्त नहीं करना चाहिये।

अनुसंधान क्रियाविधि – महत्वपूर्ण लिंक

Disclaimer: e-gyan-vigyan.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है। यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- [email protected]

About the author

e-gyan-vigyan Team

Leave a Comment