विपणन प्रबन्ध

इन्टरनेट के मुख्य अनुप्रयोग | Main Internet Applications in Hindi

इन्टरनेट के मुख्य अनुप्रयोग | Main Internet Applications in Hindi

Table of Contents

इन्टरनेट के मुख्य अनुप्रयोग

(Main Internet Applications)

इंटरनेट के तीव्रता से प्रचार-प्रसार ने विश्व में सूचना प्रौद्योगिकी को क्रांतिकारी शिखर पर पहुंचा दिया है। इसका कारण यह है कि हमारे दैनिक जीवन का कोई भी कार्य कम्प्यूटर और इंटरनेट से अछूता नहीं है, इसलिए कम्प्यूटर के अनुप्रयोगों को संक्षिप्त रूप से वर्णित नहीं किया जा सकता है। लेकिन इंटरनेट के मूलभूत अनुप्रयोग इस प्रकार विश्लेषित किये जा सकते हैं-

  1. ई-मेल से पत्र व्यवहार (Mailing with E-mail)- बहुत ही कम खर्च में पत्र व्यवहार व संदेश प्रेषण के लिए ई-मेल का उपयोग किया जाता है।
  2. ई-पोस्ट से पत्र व्यवहार (Mailing with E-post)- ई-पोस्ट भारतीय डाक का एक प्रशंसनीय कार्य है। इस सुविधा का उपभोग करने के लिए इंटरनेट पर www.indiapost.org वेबसाइट पर जाकर कोई भी व्यक्ति ऑनलाईन सदस्य (Online member) बन सकता है। सदस्य बनने के लिए शुल्क रुपये 250, 500, 2000, 5000 तथा 10000 मूल्यवर्ग के अकाउन्ट उपलब्ध हैं। जब कभी कोई ग्राहक अपने कम्प्यूटर से या साइबर कैफे में जाकर इंटरनेट पर इस वेबसाइट से अपना पत्र प्रेषित करेगा तो प्राप्तकर्ता के शहर में स्थित ई-पोस्ट डाकघर के कम्प्यूटर में यह पत्र पहुंच जायेगा। जहाँ इसे कागज पर छापकर डाकिया (Postman), प्राप्तकर्ता के घर पर सामान्य डाक की तरह हाथों में देकर आयेगा। इस सुविधा ये यह लाभ है कि डाक उस व्यक्ति को भी मिलती है जिसके पास कम्प्यूटर और इंटरनेट कनेक्शन नहीं है। साथ ही भेजने वाले व्यक्ति के पास भी यदि इंटरनेट कनेक्शन और कम्प्यूटर नहीं है तो किसी भी साइबर कैफे में जाकर इस सुविधा का लाभ उठाया जा सकता है। इस विधि से पत्र छपी हुई अवस्था में दुनिया के किसी भी काने में उपस्थित अपने घर पर कुछ ही घंटों में भेजा और प्राप्त किया जा सकता है। ई-पोस्ट के माध्यम से आप हस्तलिखित पत्र भी भेज सकते हैं।
  3. डाटाबेस पोस्ट (Database Post)- डाक विभाग देश की सारी डाक का अकेला विस्तृत नेटवर्क वाला नियंत्रक प्राधिकरण है जिस तक सभी लोगों की पहुंच है। सम्पूर्ण व्यापारिक समाधान उपलब्ध कराने तथा अतिरिक्त राजस्व अर्जित करने हेतु डाटाबेस सेवा को नवीन सेवाओं में से एक माना जाता है। इस सेवा के अन्तर्गत डाक विभाग निम्नलिखित डाटाबेस संग्रह करता है, और इंटरनेट पर उपलब्ध करवाने का प्रयास कर रहा है –

(क) डाक ग्राहकों के डाटाबेस

(ख) परिवारों के डाटाबेस

(ग) व्यवसाय से व्यवसाय डाटाबेस

(घ) सरकारी पतों का डाटाबेस

(ड.) पता परिर्वतन डाटाबेस

क्रय-विक्रय करने वाले लोग डाटाबेस पतों पर डाक भेजने में रुचि लेंगे जिसके लिए डाक विभाग शुल्क लेगा।

  1. सामूहिक वाद-विवाद (Group Discussions)- इंटरनेट पर यूजनेट (Usenet) के माध्यम से किसी एक निश्चित विषय से सम्बन्धित लोग वाद विवाद करते हैं और अपने ज्ञान में वृद्धि करके किसी निष्कर्ष तक पहुँचते हैं। इंटरनेट के यूजनेट पर अनेक विषय, जैसे- शिक्षा, विज्ञान, व्यापार, खेलकूद, राजनीति, पत्रकारिता, चिकित्सा, योग व आयुर्वेद, सामाजिक रीति- रिवाज, आदि पर वाद विवाद की सुविधा होती है।
  2. व्यापारिक इलेक्ट्रॉनिक स्टोर (Commercial Electronic Store)- इंटरनेट पर ऐसे ठिकाने (Sites) भी आजकल उपलब्ध हैं जिन पर जाकर हम किसी वस्तु को खरीदने के लिए चुन सकते हैं और आर्डर दे सकते हैं। उदाहरणार्थ- www.baazee.com एक ऐसी वेबसाइट है जिस पर अनेक प्रकार की वस्तुओं के भाव व मॉडल देखने की सुविधा है, साथ ही उन्हें खरीदने के लिए ऑर्डर भी दिया जा सकता है।
  3. तकनीकी मार्गदर्शन (Technical Guidance)- व्यापार में किसी उत्पाद से सम्बन्धित तकनीकी जानकारी का ब्यौरा इंटरनेट पर उपलब्ध सम्बन्धित वेब साइट पर जाकर प्राप्त किया जा सकता है। इसी प्रकार हमारे व्यापार से सम्बन्धित तकनीक और विपणन (Marketing) का ब्यौरा हम स्वयं भी इंटरनेट पर प्रकाशित कर सकते हैं, जिससे हमारे व्यापार का विज्ञापन और विकास कम खर्च में हो सके। उदाहरणार्थ रिलायंस इंडिया मोबाइल कम्पनी वर्तमान में अपने उत्पादों का ब्यौरा इंटरनेट पर प्रकाशित करके अच्छे विपणन का लाभ उठा रही है। इसी प्रकार सी-डेक सुपर कम्प्यूटिंग के लिए विभिन्न जानकारी अपनी वेबसाइट पर प्रस्तुत करती है।
  4. इलेक्ट्रॉनिक प्रकाशन (Electronic Publication)- इंटरनेट पर सूचना प्रस्तुतीकरण पूर्ण रूप से इलेक्ट्रॉनिक है इसलिए इस पर प्रकाशित सामग्री को आवश्यकता पड़ने पर परिवर्तित व नवीनीकृत किया जा सकता है, इसके लिए किसी भी संस्थान से अनुमति और प्रतीक्षा करने की भी आवश्यकता नहीं होती है जिससे विज्ञापन और सूचना विनिमय का यह माध्यम कम खर्चीला और नवीनीकृत (Updated) होता है। इंटरनेट का विश्व में व्यापक प्रसार व प्रचार होने से यूजर और उपभोक्ताओं की संख्या वृहद हो चुकी है, फलतः इसके माध्यम से सूचना प्रेषण व प्रति उत्तर पर्याप्त लाभकारी होते हैं। इसलिए इस इलेक्ट्रानिक युग में इंटरनेट के माध्यम से सूचना प्रस्तुतीकरण का अधिक लाभकारी इलेक्ट्रानिक प्रकाशन संभव हो गया है।
  5. परीक्षा परिणाम (Examination Results)- कुछ निजी वेबसाइट और शैक्षणिक संस्थानों की वेबसाइट परीक्षा परिणाम इंटरनेट पर प्रकाशित करती हैं, जिससे परिणाम की घोषणा के तुरंत बाद किसी भी शहर में अभ्यर्थी अपने रोल नम्बर के द्वारा इंटरनेट पर परीक्षा परिणाम और अंकतालिका की प्रति प्राप्त कर सकते हैं। www.indiaresult.com एक ऐसी वेबसाइट है जिस पर अधिकतर विश्वविद्यालय, बोर्ड और भर्ती बोर्ड की परीक्षाओं के परिणाम उपलब्ध रहते हैं।
  6. ऑनलाईन जॉब (Online Job)- आजकल विभिन्न निजी संस्थान डाटा एन्ट्री का कार्य इंटरनेट के माध्यम से व्यक्तियों से करवाते हैं और उसके पारिश्रामिक का भुगतान करते हैं। इस प्रक्रिया में उक्त संस्था की सदस्यता लेकर कोई भी व्यक्ति घर बैठे अपने कम्प्यूटर में इंटरनेट पर वेबसाइट के माध्यम से कार्य (Job) प्राप्त करके उसे सम्पन्न कर सकता है और धन अर्जित कर सकता है।
  7. ऑनलाइन पंजीकरण (Online Registration) – कई विश्वविद्यालय, संस्थान और शिक्षण संस्थान इंटरनेट के माध्यम से प्रशिक्षण और पंजीकरण के लिए आवेदन (Form) उपलब्ध करवाते हैं। इससे विद्यार्थियों का समय व धन व्यर्थ नष्ट नहीं होता है और ऐसे औपचारिक कार्यों को वे घर बैठे ही सम्पन्न कर लेते हैं।
  8. इंटरनेट बैंकिंग (Internet Banking)- व्यक्ति अपने बैंक के खातों का ब्यौरा इंटरनेट की सहायता से देख सकते हैं और इंटरनेट के ही माध्यम से घर बैठे ही लेन-देन का कार्य कर सकते हैं। इसके लिए इंटरनेट पर ऑनलाईन बैंक की वेबसाइट खोलकर अपने खाते में पासवर्ड देकर प्रवेश (Login) करता है और जिस व्यक्ति के खाते में भुगतान भेजना है उसका चुनाव करके वेबसाइट पर उपलब्ध विकल्पों की सहायता से धन ट्रांसफर (Money Transfer) कर सकता है।
  9. ई-पे (E-Pay)- यूजर इंटरनेट के माध्यम से सभी प्रकार के बिलों (जैसे- टेलीफोन, बिजली, पानी आदि) का भुगतान कर सकता है। इसकी सुविधा कई ऑनलाईन बैंक प्रदान करती हैं, उदाहरणार्थ- स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ग्रुप की वेबसाइट www.onlinesbi.com पर ई-पे की सुविधा उपलब्ध है।
  10. ई-रेल (E-Rail)- इंटरनेट के माध्यम से रेल आरक्षण टिकट की बुकिंग ऑनलाइन करना संभव है। इसकी भी सुविधा कई ऑनलाइन बैंक प्रदान करती हैं, उदाहरणार्थ- स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया ग्रुप की वेबसाइट www.onlinesbi.com पर भारतीय रेल की किसी भी ट्रेन में रेल आरक्षण टिकट बुक कर सकते हैं तथा टिकट और आरक्षण का भुगतान उपभोक्ता की बैंक में जमा राशि में से स्वतः ही हो जाता है।
विपणन प्रबन्ध – महत्वपूर्ण लिंक

Disclaimer: e-gyan-vigyan.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है। यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- vigyanegyan@gmail.com

About the author

Pankaja Singh

Leave a Comment

error: Content is protected !!