पाठ योजना

भूमंडल पाठ योजना | भूमंडल लेसन प्लान

भूमंडल पाठ योजना | भूमंडल लेसन प्लान

भूमंडल पाठ योजना

विद्यालय का नाम अ – ब – स विद्यालय

दिनांक 00/00/0000

कक्षा 6

विषय भूगोल

प्रकरण भूमंडल

अवधि 30 मिनट 

सामान्य उद्देश्य

  • छात्रों में भूगोल के प्रति रुचि उत्पन्न करना।
  • छात्रों को विश्व के विभिन्न देशों के भौगोलिक एवं सामाजिक पर्यावरण को समझने योग्य बनाना।
  • छात्रों में प्राथमिक स्तर पर प्राप्त ज्ञान को सुव्यवस्थित करना।
  • छात्रों में भौगोलिक नागरिकता के गुणों का विकास करना।
  • छात्रों में भारत की प्राकृतिक परिस्थितियों का ज्ञान कराना।

विशिष्ट उद्देश्य

  • छात्र-छात्राएं भूमंडल को प्रत्यास्मरण कर सकेंगे।
  • छात्र-छात्राएं भूमंडल के महत्व का प्रत्याभिज्ञान कर सकेंगे।
  • छात्र-छात्राएं महाद्वीपों की व्याख्या कर सकेंगे।
  • छात्र-छात्राएं महाद्वीपों की विशेषताओं का विश्लेषण कर सकेंगे।
  • छात्र-छात्राएं द्वीप तथा महाद्वीप में अंतर कर सकेंगे।

शिक्षण सामग्री

चार्ट, चाक, डस्टर, संकेतांक एवं अन्य कक्षा उपयोगी सामग्री।

पूर्व ज्ञान

विद्यार्थी भूमंडल के विषय में सामान्य जानकारी रखते होंगे।

प्रस्तावना के प्रश्न

छात्र अध्यापिका क्रिया

विद्यार्थी अनुक्रिया

चंद्रमा किस ग्रह का उपग्रह है?

पृथ्वी का

पृथ्वी के बड़े तथा विस्तृत द्वीपों को क्या कहते हैं?

महाद्वीप

महाद्वीप किस मंडल के अंतर्गत आते हैं?

भूमंडल के अंतर्गत

उद्देश्य कथन

आज हम लोग भूमंडल के विषय का अध्ययन करेंगे।

प्रस्तुतीकरण ( शिक्षण बिंदु, छात्र अध्यापिका क्रिया, विद्यार्थी अनुक्रिया)

भूमंडल

पृथ्वी के ठोस भाग को भूमंडल कहा जाता है। यह भूपर्पटी की चट्टानों तथा मिट्टी की पतली परतों का बना होता है जिसमें जीवो के लिए पोषक तत्व पाए जाते हैं। पृथ्वी की सतह को दो मुख्य भागों में बांटा जाता है। स्थलीय भागों को महाद्वीपों तथा जलाशयों को महासागरीय बेसिन के नाम से जानते हैं।

समुद्री तल- समुद्री जल का तल सभी जगह समान होता है। स्थल की ऊंचाई को समुद्र तल से मापा जाता है। जिसे शून्य माना जाता है। सबसे ऊंचा शिखर माउंट एवरेस्ट तल से 8,848 मीटर ऊंचा है। सबसे गहरा भाग प्रशांत महासागर का मेरियाना गर्त 11,022 मीटर है।

महाद्वीप

पृथ्वी पर सात प्रमुख महाद्वीप हैं। यह विस्तृत जलराशि के द्वारा एक दूसरे से अलग हैं।

  1. एशिया सबसे बड़ा महाद्वीप है। पृथ्वी की एक तिहाई भाग में फैला है यह कुल क्षेत्रफल में पर। पूर्वी गोलार्ध में स्थित है। कर्क रेखा गुजरती है। यूराल पर्वत इसे यूरोप से अलग करता है।
  2. यूरोप यह एशिया से बहुत छोटा तथा उसके पश्चिम में स्थित है। यह तीन तरफ जल से घिरा है। आर्कटिक वृत्त इससे होकर गुजरती है।
  3. अफ्रीका एशिया के बाद विश्व का दूसरा बड़ा महाद्वीप है। 0 अंश देशांतर लगभग इसके मध्य से गुजरती है। अधिकतर भाग उत्तरी गोलार्ध में स्थित है। तीनों मुख्य रेखाएं इससे होकर गुजरती हैं। यह चारों तरफ से समुद्र से घिरा हुआ है।
  4. उत्तरी अमेरिका तीसरा सबसे बड़ा महाद्वीप है। यह दक्षिण अमेरिका से एक संकरे स्थल से जुड़ा है जिसे पनामा स्थल संधि कहा जाता है यह महाद्वीप पूरी तरह से उत्तरी एवं पश्चिमी गोलार्ध में स्थित है। यह तीन तरफ से महासागरों से घिरा है।
  5. दक्षिणी अमेरिका अधिकांश भाग दक्षिणी गोलार्ध में स्थित है। इसके पूर्व में तथा दक्षिण में महासागर हैं। विश्व की सबसे लंबी पर्वत श्रृंखला एंडीज इसके उत्तर से दक्षिण की ओर फैली है।
  6. ऑस्ट्रेलिया विश्व का सबसे छोटा महाद्वीप जो दक्षिण गोलार्ध में स्थित है। यह चारों तरफ से महासागरों तथा समुद्रों से घिरा है इसे द्वीपीय महाद्वीप कहा जाता है।
  7. अंटार्कटिका यह दक्षिणी गोलार्द्ध में स्थित है। यह हमेशा मोटी बर्फ की परतों से ढका रहता है। यहां स्थाई मानव निवास नहीं करते हैं।

श्यामपट्ट सारांश

  • पृथ्वी के ठोस भाग को भूमंडल कहा जाता है।
  • पृथ्वी पर सात महाद्वीप हैं-
  1. एशिया
  2. यूरोप
  3. अफ्रीका
  4. उत्तरी अमेरिका
  5. दक्षिणी अमेरिका
  6. ऑस्ट्रेलिया
  7. अंटार्कटिका
  • बड़े स्थलीय भूभागों को महाद्वीप के नाम से जाना जाता है।

निरीक्षण कार्य

छात्र अध्यापिका छात्रों सेश्यामपट्ट पर लिखी सामग्री को अपनी उत्तर पुस्तिका में लिखने का निर्देश देगी और निरीक्षण करते हुए उनकी समस्याओं का समाधान करेगी।

मूल्यांकन के प्रश्न

  1. भूमंडल किसे कहते हैं?
  2. भूमंडल के महत्व को बताएं?
  3. महाद्वीप किसे कहते हैं?
  4. ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप की विशेषताएं बताएं?
  5. द्वीप तथा महाद्वीप में अंतर बताएं?

गृह कार्य

एशिया महाद्वीप की विशेषताएं लिखें?

पाठ योजनामहत्वपूर्ण लिंक

Disclaimer: e-gyan-vigyan.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है। यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- vigyanegyan@gmail.com

About the author

Pankaja Singh

Leave a Comment

error: Content is protected !!