शिक्षाशास्त्र

बौद्ध शिक्षा प्रणाली का आधुनिक भारतीय शिक्षा प्रणाली के विकास में योगदान

बौद्ध शिक्षा प्रणाली का आधुनिक भारतीय शिक्षा प्रणाली के विकास में योगदान

Table of Contents

 बौद्ध शिक्षा प्रणाली का आधुनिक भारतीय शिक्षा प्रणाली के विकास में योगदान

(Contribution of Buddhist Education System in development of Modern Indian Education)

हमारे देश में सर्वप्रथम वैदिक शिक्षा प्रणाली का विकास हुआ, वही हमारी वर्तमान भारतीय शिक्षा प्रणाली का नींव का पत्थर है। उसके बाद इस देश में बौद्ध काल में एक नई शिक्षा प्रणाली का विकास हुआ जिसे बौद्ध शिक्षा प्रणाली कहते हैं। यह शिक्षा प्रणाली कुछ अर्थों में वैदिक शिक्षा प्रणाली के समान थी और कुछ अर्थों में असमान । वैसे यह शिक्षा प्रणाली मुस्लिम काल में ही समाप्त हो गई थी परन्तु यह अपने कुछ अनुकरणीय पद चिह्न अवश्य छोड़ गई। उन्हीं को हम आधुनिक भारतीय शिक्षा के विकास में उसका योगदान मान सकते हैं। इस प्रभाव अथवा योगदान को हम निम्नलिखित रूप में स्पष्ट कर सकते हैं-

(1) शिक्षा का विभिन्न स्तरों में विभाजन-

वैदिक शिक्षा प्रणाली में शिक्षा को दो ही स्तरों में बाँटा गया था-प्राथमिक एवं उच्च । बौद्ध शिक्षा प्रणाली में इसे तीन स्तरों में बाँटा गया-प्राथमिक, उच्च और भिक्षु शिक्षा । इसी नींव पर अब वह मनोवैज्ञानिक दृष्टि से पूर्व प्राथमिक, प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च और विशिष्ट, अनेक स्तरों में विभाजित है

(2) गुरु-शिष्य के बीच मधुर सम्बन्धों की निरन्तरता-

बौद्ध काल में गुरु और शिष्य दोनों बौद्ध संघों अनुशासन में रहते थे, दोनों एक-दूसरे के प्रति अपने कर्तव्यों का निष्ठा से पालन करते थे। गुरु शिष्यों के प्रति समर्पित थे और शिष्य गुरुओं के प्रति समर्पित थे। दोनों के बीच बहुत पवित्र और मधुर सम्बन्ध थे। वैसे तो हमारे देश में इस समय शिक्षक और शिक्षार्थियों के बीच इतने अच्छे सम्बन्ध नहीं हैं परन्तु हम उनसे यह अपेक्षा अवश्य करते हैं कि शिक्षक शिक्षार्थियों के प्रति समर्पित हो और शिक्षार्थी शिक्षकों का सम्मान करें

(3) जन शिक्षा की शुरूआत-

बौद्धों ने सभी वर्गों के बच्चों को शिक्षा का अधिकार दिया। साथ ही प्राथमिक शिक्षा की व्यवस्था मठों एवं विहारों में की। यह जन शिक्षा के क्षेत्र में पहला कदम था। परन्तु न तो उन्होंने शिक्षा को अनिवार्य किया और न शिक्षा को सर्वसुलभ बनाया। बहरहाल उन्होंने सबको शिक्षा का अधिकार तो दिया। आज अधिकार के साथ-साथ सुविधा प्रदान करने का भी प्रयत्न किया जा रहा है।

(4) शिक्षा पर केन्द्रीय नियन्त्रण की शुरूआत–

वैदिक शिक्षा प्रणाली में शिक्षा का प्रशासन गुरुओं के व्यक्तिगत हाथों में था, बौद्ध शिक्षा प्रणाली में यह बौद्ध संघों के केन्द्रीय नियन्त्रण में थी। यूँ अभी भी यह राज्य के नियन्त्रण से मुक्त थी परन्तु इसमें केन्द्रीय नियन्त्रण का शुभारम्भ हो गया था। आज यह राज्य के केन्द्रीय नियन्त्रण में है। इसे हम बौद्ध शिक्षा प्रणाली की देन मानते हैं। बौद्ध काल में शिक्षा को राज्य का संरक्षण प्राप्त हुआ; आज वह पूर्णरूप से राज्य का उत्तरदायित्व हो गई है। इसे भी बौद्ध शिक्षा की देन माना जा सकता है। बौद्ध शिक्षा प्रणाली में प्राथमिक शिक्षा निःशुल्क थी और उच्च शिक्षा में शुल्क लिया जाता था। हमारी आज की शिक्षा प्रणाली में भी ऐसा ही है। यह भी बौद्ध शिक्षा प्रणाली की देन है।

(5) शिक्षा की अति विस्तृत पाठ्यचर्या और अति बारीक विशिष्टीकरण-

यूँ तो प्राथमिक स्तर पर समान पाठ्यचर्या और उच्च स्तर पर विशिष्ट पाठ्यचर्या के निर्माण की नींव वैदिक शिक्षा प्रणाली में ही रख दी गई थी परन्तु बौद्ध शिक्षा प्रणाली में इसे और अधिक बारीकी से देखा-समझा गया और उच्च स्तर पर अनेक अन्य विशिष्ट पाठ्यक्रम शुरू किए गए। इस प्रकार इसकी नींव तो वैदिक शिक्षा प्रणाली में रखी गई परन्तु इसका विकास बौद्ध शिक्षा प्रणाली में हुआ।

(6) कक्षा शिक्षण और स्वाध्याय का शुभारम्भ-

शिक्षण के क्षेत्र में बौद्ध शिक्षा प्रणाली की आधुनिक भारतीय शिक्षा प्रणाली को पहली देन यह है कि उसने लोकभाषा (पाली) को शिक्षा का माध्यम बनाया, आज उसी आधार पर मातृभाषाओं को शिक्षा का माध्यम बनाया गया है । दूसरी देन यह है कि उसने कक्षा (सामूहिक) शिक्षण का शुभारम्भ किया। और तीसरी देन यह है कि स्वाध्याय विधि का विकास किया। स्वाध्याय विधि के लिए पुस्तकालयों का निर्माण सर्वप्रथम बौद्ध शिक्षा प्रणाली में ही शुरू हुआ था। आज तो पुस्तकालयों शिक्षकों का पूरक माना जाता है।

(7) विद्यालय शिक्षा का शुभारम्भ-

बौद्ध शिक्षण प्रणाली में शिक्षा की व्यवस्था बौद्ध मठों एवं विहारों में की गई, यह विद्यालयी शिक्षा का शुभारम्भ था। इन मठों एवं विहारों में बड़े-बड़े शिक्षण कक्ष थे, इनमें छात्र एक साथ बैठकर पढ़ते थे। इस प्रकार इस प्रणाली में कक्षा शिक्षण का शुभारम्भ किया गया। इन बौद्ध मठों एवं विहारों में विभिन्न कक्षाओं को विभिन्न विषय अलग-अलग शिक्षक (विषय विशेषज्ञ) पढ़ाते थे। यह बहुशिक्षक प्रणाली एवं विषय विशेषज्ञों द्वारा शिक्षण का शुभारम्भ था । आधुनिक भारतीय शिक्षा प्रणाली के विकास में बौद्ध शिक्षा प्रणाली की यह आधारभूत देन है।

(8) शिक्षा के उद्देश्यों का रूप समयानुकूल-

वैदिक शिक्षा प्रणाली में शिक्षा के जो उद्देश्य निश्चित किए‌ गए थे, वही उद्देश्य बौद्ध शिक्षा प्रणाली में निश्चित किए गए। बस अन्तर इतना हुआ कि बौद्ध शिक्षा प्रणाली में कला-कौशल एवं व्यवसायों की शिक्षा पर अपेक्षाकृत अधिक बल दिया जाने लगा था। बौद्ध शिक्षा प्रणाली के अनुसार आधुनिक शिक्षा प्रणाली में भी इनकी शिक्षा पर अधिक बल दिया जाता है। यह देन बौद्ध शिक्षा प्रणाली की ही है।

(9) स्त्री-पुरुषों की समान शिक्षा-

वैसे तो बौद्ध शिक्षा प्रणाली में स्त्रियों की शिक्षा की समुचित व्यवस्था‌ नहीं की गई थी। साथ ही उनके लिए पुरुषों की भाँति इतने कठोर नियम बना दिए गए थे कि बहुत कम बालिकाएँ ही मठों एवं विहारों में प्रवेश लेती थीं। परन्तु स्त्रियों को पुरुषों की भाँति किसी भी प्रकार की शिक्षा‌प्राप्त करने की शुरुआत इस प्रणाली में कर दी गई थी। आधुनिक भारतीय शिक्षा प्रणाली को यह उसकी बड़ी देन है।

(10) धार्मिक एवं नैतिक शिक्षा की निरन्तरता-

वैदिक शिक्षा प्रणाली में वैदिक धर्म की शिक्षा अनिवार्य थी, बौद्ध शिक्षा प्रणाली में बौद्ध धर्म की शिक्षा अनिवार्य थी। आज इन दोनों शिक्षा प्रणालियों के विपरीत हमारी आधुनिक शिक्षा प्रणाली में किसी भी धर्म की शिक्षा अनिवार्य नहीं है। हाँ, नैतिकता की शिक्षा को अनिवार्य किया गया है,पर यह नैतिकता किसी धर्म विशेष पर आधारित न होकर मानवीय मूल्यों पर आधारित है।

(11) कला-कौशल एवं व्यावसायिक शिक्षा पर बल-

बौद्धों ने सभी कला-कौशलों और व्यवसायों को सम्मान की दृष्टि से देखा और अपनी शिक्षण प्रणाली में इन सबकी शिक्षा की समुचित व्यवस्था की । आधुनिक भारतीय शिक्षा प्रणाली में भी ऐसी व्यवस्था है। यह बौद्ध शिक्षा प्रणाली की ही देन मानी जानी चाहिए।

शिक्षाशास्त्र महत्वपूर्ण लिंक

Disclaimer: e-gyan-vigyan.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है। यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- vigyanegyan@gmail.com

About the author

Pankaja Singh

Leave a Comment

error: Content is protected !!